हबीब पेंटर... करके काया की कोतवाली....

There seems to be an error with the player !

बंदे को खुदा क्या कहना...

There seems to be an error with the player !

मोरे पिछवरवां चंदन गाछे

There seems to be an error with the player !

अभी और सुनना चाहते हैं तो कुछ अन्य गानों के लिए क्लिक करें.. सुनें-गुनगुनाएं

Guest » 8am - Feb 16, 2011

वे घसीटते रहे ... मैं गिड़गिड़ाती रही : ये आदिवासी लड़की एक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता है. इसे बालों से बांधकर केंद्रीय सुरक्षा बल के जवानों ने गाँव की गालियों में घसीटा था. इस इंटरव्यू की एक प्रति राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष और कांग्रेसी सांसद गिरिजा व्यास के हाथ में भी सौंपी गयी थी. परन्तु न्याय मिलना तो दूर, कोई जाँच करने की भी जहमत नहीं की गयी. आंगनबाड़ी कार्यकर्ता से सामाजिक कार्यकर्ता हिमांशु कुमार की बातचीत...

Rating: 0.0 (0 Votes)

Video Comments

Comments (2)Add Comment
0
अन्याय की शिकार की एक महिला की कहानी उसी की जुबानी
written by vivek, February 16, 2011
वे घसीटते रहे ... मैं गिड़गिड़ाती रही : ये आदिवासी लड़की एक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता है. इसे बालों से बांधकर केंद्रीय सुरक्षा बल के जवानों ने गाँव की गालियों में घसीटा था. इस इंटरव्यू की एक प्रति राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष और कांग्रेसी सांसद गिरिजा व्यास के हाथ में भी सौंपी गयी थी. परन्तु न्याय मिलना तो दूर, कोई जाँच करने की भी जहमत नहीं की गयी. आंगनबाड़ी कार्यकर्ता से सामाजिक कार्यकर्ता हिमांशु कुमार की बातचीत...
0
adibasi ladki ki utpidan ki kahani
written by Anirudh Mahato , February 20, 2011
Desh azad hua lekin shashan pranali angrejon ki hai. ek or ugrawadi bandook ke bal per janta per julm dhati hai to dushri or police ke jawan bhi bandook ke bal per apradh karte hain. general public muh takte rahti hai. neta doom daba ker bil me chhup jate hai. Akhbar hi neta Aour janta ko samachar ka injection dekar jagane ka kam karti hai. Adibasi ladki ko nyay milna chahiye. nahi to prajatantra ka koi matlab hi nahi rah jata.

Write comment

busy